आख़िर क्या है ललित मोदी की पहेली
Posted on: Sunday 21 June 2015  

( अनवर चौहान की ख़ास रिपोर्ट ) मौजूदा दौर कि अगर बात करें तो आज लतित मोदी पूरे मीडिया में छाए हुए हैं। कभी सुषमा तो कभी वसुंधरा और भी कई नाम एसे हैं कि जिन्हें ललित की मदद करने पर सभी नेताओं को कटघरे में ख़डा कर दिया है। जिनकी ललित मोदी की मदद की आज उनसे इस्तीफे मांगे जा रहे हैं। आखिर  वो कौन से सवाल हैं जिसने मददगारों को गुनहगार बना दिया। बात कोई ज़्यादा पुरानी नहीं है उन्हें बेताज बादशाह कहा जाता था। ललित मोदी की सल्तनत का सिक्का जयपुर ही दूर तक सिक्का चलता था. वक्त बदला तो वे उसी खेल मैदान की चारदिवारी की दुनिया के लिए ना काबिले कुबूल हो गए.  हाल में उठे विवादों के बीच कोई राजस्थान में उनके आगमन का आकांक्षी है तो कोई कह रहा है अच्छा हो उन्हें यहाँ से दूर ही रखा जाए. मगर खुद उनकी रूह गोया इसी परिधि में उन अच्छे दिनों को याद करती हुई अब भी मुसाफिरी कर रही है. कोई उनका प्रबल प्रशंसक है तो कोई प्रखर विरोधी.

मोदी क़रीब चार साल तक (2005-2009) तक राजस्थान क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष रहे हैं. पक्ष और विपक्ष झुंझुनू जिला क्रिकेट संघ के सचिव राजेंद्र सिंह राठौर मोदी की तारीफ करते हैं. वो कहते हैं कि मोदी के आगमन से क्रिकेट को बहुत कुछ मिला, वो तुरंत फ़ैसला करते थे और अंजाम की परवाह नहीं करते थे. राठौर कहते हैं, "अगर एक बार उन्होंने अपना क़दम बढ़ा दिया तो फिर परिणाम की चिंता नहीं करते थे. आज जो भी इस स्टेडियम में आधुनिक सुविधाएं हैं उनकी ही देन हैं." कोटा क्रिकेट संघ के सचिव अमीन पठान कभी उनके प्रमुख सिपहसालार रहे हैं. अब वे मोदी के धुर विरोधी हैं. पठान कहते हैं, "वो बहुत ज़िद्दी इंसान है. उन्होंने क्रिकेट को बदनाम किया है. आज उनकी वजह से यह पूरा खेल बदनाम हो कर रह गया है.`` पठान बताते हैं, "शुरू में वो आए तो लगा कि वे शायद क्रिकेट का भला करेंगे. लेकिन उन्होंने इसे व्यापार बना लिया. लिहाजा हमें विरोध करना पड़ा. क्योंकि वे सिर्फ पैसे के लिए काम कर रहे थे." कोटा क्रिकेट एसोसिएशन के पठान का संबध सत्तारूढ़ बीजेपी से है. उन्हें सत्तापक्ष के निकट समझा जाता है. पठान कहते हैं उनके विरोध को राजनीति से जोड़कर नहीं देखना चाहिए. क्रिकेट संघ में लंबे समय तक काम कर चुके एक पूर्व पदाधिकारी की नज़र में ललित मोदी एक नितांत अविश्वसनीय व्यक्ति हैं. रियासतकाल में बने इस स्टेडियम पर यूँ तो राज्य क्रीड़ा परिषद का कानूनी नियंत्रण है. लेकिन मोदी के क्रिकेट संघ का अध्यक्ष बनने के बाद परिषद अपने ही आँगन में बेगानी हो गई. परिषद के 53 साल के कार्यकाल में पहली बार ऐसा हुआ कि उसकी हैसियत घट गई है. गणतंत्र दिवस और स्वाधीनता दिवस, लोकतंत्र के सबसे पावन और प्रमुख पर्व माने जाते हैं. पहले ये दोनों उत्सव इसी स्टेडियम में आयोजित किए जाते थे.शायद ये क्रिकेट का ही प्रभाव था, ये दोनों उत्सव तीन साल तक स्टेडियम से निर्वासित हो गए. राठौर कहते हैं इसमें कोई बुराई नहीं है.स्टेडियम का नया दौर इस स्टेडियम ने न केवल दो वर्ल्ड कप में मुकाबले देखे हैं, बल्कि 1983 में हिन्दुस्तान और पाकिस्तान का एक दिवसीय मुकाबला भी देखा, जिसे देखने पाकिस्तान के तत्कालीन हुक़्मरान ज़िया-उल-हक़ भी आए थे. ललित मोदी के कार्यकाल में इस खेल प्रांगण ने बहुत कुछ देखा.