लालू ने भी फांसी धास, माझी मझदार में
Posted on: Friday 05 June 2015  

नई दिल्ली। बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी के निवास पर लगें पेड़ों पर पहरा लगाए जाने के मांझी- नीतीश विवाद में अब लालू भी कूद पड़े हैं। उन्होंने कहा कि उस निवास परिसर में फलों के पेड़ मैने और राबड़ी ने लगाए थे, इस लिए इन फलों पर पहला अधिकार मेरा है।गौरतलब है कि आधिकारिक मुख्यमंत्री आवास 1, अणे मार्ग परिसर में लगे फल और सब्जियों की पहरेदारी के लिए एसपी स्तर के अधिकारी के नेतृत्व में दो दर्जन पुलिस अधिकारियों की तैनाती कर दी गई है। हालांकि, पुलिस मुख्यालय ने फलों-सब्जियों की पहरेदारी के लिए पुलिस की तैनाती के आरोप को निराधार करार दिया है। राजनीतिक खींचतान के बीच अब फलों और सब्जियों ने भी अपनी जगह बना ली है। आधिकारिक मुख्यमंत्री आवास 1, अणे मार्ग परिसर में लगे फल और सब्जियों का मुद्दा काफी रोचक हो चला है। यहां रह रहे जीतन राम मांझी पद पर नहीं हैं और वर्तमान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार यहां रहते नहीं। ऐसे में आखिर इन पर हक किसका है, यह तय नहीं हो पाया है। फलों व सब्जियों की पहरेदारी को जीतनराम मांझी ने घटिया मानसिकता का प्रमाण बताया है। उनकी पार्टी हिंदुस्तान अवाम मोर्चा ने इसकी कड़ी आलोचना की है। मोर्चा ने कहा कि राज्य में रोज हत्या, बलात्कार, अपहरण, डकैती जैसे अपराध पर सरकार का कोई ध्यान नहीं है, जबकि मुख्यमंत्री आवास परिसर में लगे आम, लीची, कटहल और इस तरह के अन्य फलदार वृक्षों की सुरक्षा के लिए पुलिस की पूरी टीम तैनात कर दी गयी है। वह भी तब, जब इस आवास में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार नहीं रह रहे हैं। इस आवास में अभी भी पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी और उनका परिवार रह रहा है।

सियासत की अजब-ग़ज़ब दास्तान, बगलगीर बने दुशमन

दुशमन हो गए दोस्त

 

 



 
 












PHPlist Appliance - Powered by TurnKey Linux